Poetry

  • एक पागल सी लड़की

    एक पागल सी लड़कीपागलों की तरह तुम्हें चाहती है तुम्हारी बात मैं अपनीपूरी दुनिया दे जाती हैडर क्या है, पता…

    Read More »
  • तुम कामयाब नहीं हो

    तो तुम्हे लगता है कि तुम कामयाब हो ? किसी स्त्री को चुप करा कर , अपने मर्द होने का…

    Read More »
  • Photo of समाज के अंग

    समाज के अंग

    बड़ी दूर है,उन्नाव बड़ी दूर है, हैदराबाद बड़ी दूर है,रांची बड़ी दूर है,वो हर जगह जहां महिलाओं के साथ दुष्कर्म…

    Read More »
  • Photo of नक्शा

    नक्शा

    तुमने प्रेम में चलते हुए, बना दिया है एक नक्शा, जो विस्तृत है शून्य तक, जिसके ओर और छोर न…

    Read More »
  • Photo of संयोग

    संयोग

    जब एक तितली महासागर के ऊपर पंख फरफराती है। तब यही घटना महादेशों में तूफान लेकर आती है। यही संयोग…

    Read More »
  • Photo of सबसे ख़तरनाक

    सबसे ख़तरनाक

    पीत पत्रकारिता सबसे खत़रनाक नहीं होती, चमचा पत्रकारिता सबसे खत़रनाक नहीं होती, लालच से भरी पत्रकारिता सबसे खत़रनाक नहीं होती,…

    Read More »
  • Photo of नकाब

    नकाब

    सच का नकाब छोड़, मैंने झूठ का दामन पकड़ लिया। इस चलती व्यस्त दुनिया में, एक धूमिल दुनिया तलाश लिया।…

    Read More »
  • Photo of बाकी है

    बाकी है

    जितना चला,उतना चलना बाकी है। जितना बदला,उतना बदलना बाकी है।। अब हमें रुकना नहीं है, अभी यह मैराथॉन बाकी है।…

    Read More »
  • Photo of वाष्पीकरण

    वाष्पीकरण

    मेरी यार…मेरी दोस्त हम एक दिन जरूर मिलेंगे। जैसे बारिश में मिलते, समंदर की बूंदे,नदियों से।

    Read More »
Back to top button
Close
Close