LoveLove PoetryPoetrysmall poetry

प्यासे

पानी के प्यासे रेगिस्तान में
रह रहकर मिराज देखते

जैसे
प्रेम के प्यासे जिंदगी में
रह रहकर देखते दोस्त

©प्रदीप कुमार।।अपना घरौंदा

Reviews

Give a review

User Rating: 4.6 ( 1 votes)
Tags

Pradeep Kumar

Founder, Editor-in-chief,Writer and PRO of Apna Gharaunda

Related Articles

Check Also
Close
Back to top button
Close
Close